अंतर्राष्ट्रीय सहकारिता वर्ष -2012

डॉ. भागचन्द्र जैन
प्राध्यापक (कृषि अर्थशास्त्र)

 

सहकारिता की महिमा लिखी है, ऋग्वेद-अर्थवेद में |
इसमें सब कुछ दिखता है, इन्द्रधनुषी रंगों के भेद में ||
प्रगति की पौ बारह होगी 2012 में, सहकारिता अपनाओ |
विश्व में मनाया जा रहा है सहकारिता वर्ष, तुम भी मनाओ ||

भारत के गाँव में विश्व का सबसे बड़ा सहकारी नेटवर्क |International Cooperation Year - bhagchandra.com
जन आन्दोलन यह, जो मिटा रहा अमीरी-गरीबी का फर्क ||
समानता और खुशहाली के लिए, सहकारिता अपनाओ |
विश्व में मनाया जा रहा सहकारिता वर्ष, तुम भी मनाओ ||

अनेकता में एकता से शोभित है, प्यारा हमारा भारत देश |
‘सब एक के लिए एक सबके लिए’ में सहकारिता विशेष ||
यत्र-तत्र-सर्वत्र विकास के लिए, सहकारिता अपनाओ |
विश्व में मनाया जा रहा सहकारिता वर्ष, तुम भी मनाओ ||

कृषि दुग्ध, सिंचाई, आवास आदि में इसका सहारा |
साख से साख यह बढ़ाये, बने बचत का आधार ||
विश्व व्यापीकरण के इस दौर में, सहकारिता अपनाओ |
विश्व में मनाया जा रहा सहकारिता वर्ष, तुम भी मनाओ ||

सर्व संपन्न हो दुनिया सारी, प्रगति है वरदान सहकारी |
सहकारी पथ पर बढ़ते जाओ, हर क्षेत्र में सफलता पाओ ||
घर में, बाहर में, गाँव.गाँव में, तुम सहकारिता अपनाओ |
विश्व में मनाया जा रहा सहकारिता वर्ष, तुम भी मनाओ ||

प्रचार अधिकारी

कृषि महाविद्यालय, रायपुर

 

Dr. BhagChandra Jain is renowned author & famous scientist in field of Agriculture. Awarded by Central & State government ,Mr. Bhag is author of more than 1700+ articles published in various international journals,magazines & books.

Currently ,Dr. Jain is working as Professor in Indira Gandhi Agricultural University .

Comments

comments